अपने बच्चों के उज्वल भविष्य के लिए इसे पूरा पढ़े

क्या है मिडब्रेन एक्टिवेशन (5 से 15 साल के बच्चों के लिए)

हमारे मस्तिष्क के दो भाग होते हैं, लेफ्ट ब्रेन और राईट ब्रेन। इन दोनों भागों को जोड़ने वाले हिस्से को कहा जाता है इन्टर ब्रेन या मिडब्रेन । अधिकतर, हम सभी लेफ्ट ब्रेन का उपयोग करते हैं जबकि राईट ब्रेन बहुत कम उपयोग में आ पाता है।
बहुमुखी प्रतिभा का धनी व्यक्ति भी जिंदगी में अपने मस्तिष्क का छोटा सा अंश ही उपयोग करता है, वह भी ज्यादातर लेफ्ट ब्रेन का – जोकि तार्किक क्षमता वाला है। सृजन शक्ति से सम्पन्न राईट ब्रेन का उपयोग न के बराबर हो पाता है।

तो मस्तिष्क के दोनों भागो के बीच का सेतु यानि मिड ब्रेन यदि एक्टिव हो जाये तो बच्चा ऑलराउंडर बन जाता है, उसके आई.क्यू. और मेमोरी दोनों एक साथ बढ़ते है। लेफ्ट ब्रेन स्कूली पढ़ाई, लॉजिकल सोच और याद करने के लिए काफी आवश्यक है। लेकिन राईट ब्रेन आविष्कारक सूझबूझ और सृजनात्मकता के लिए अनिवार्य है।

 कैसे होता है -

ध्यान और विज्ञान के संयोग से से बच्चों के मिडब्रेन को एक्टिव किया जाता है। ब्रेन एक्टिव होने से मैमोरी, कंसेंट्रेशन, विजुलाईजेशन, इमेजिनेशन, क्रिएटिविटी और जल्दी पढ़ने की कला जागृत हो जाती है। जिससे सभी इन्द्रियाँ एक साथ ऑब्जेक्ट को महसूस कर मस्तिष्क को सूचना देने लगती हैं।

यह पूरी प्रक्रिया वैज्ञानिक प्रणाली पर आधारित है। बच्चो को शांत और विश्रामपूर्ण स्थिति में ले जाकर उन्हें अलग अलग स्टेप जैसे – ब्रेन जिम, डांस, पजल्स, गेम्स, सिंगिंग, योग व् ध्यान क्रियाएं सिखाई जाती है। शरीर के बाएं व् दाएं दोनों तरफ के अंगों को बराबरी से उपयोग करने की प्रैक्टिस करवाई जाती है।

 कितना समय लगता है -

यह वैसे तो 2 दिन की वर्कशॉप में हो जाता है। पहले और दूसरे दिन 6-7 घंटो का अभ्यास कराया जाता है। इसके बाद हर हफ्ते 3 से 4 घंटों का फॉलोअप कराया जाता है।

करीब 1 महीने के अभ्यास में बच्चो की इन्द्रियाँ संवेदनशील होने लगती है और लगभग 2 से 3 महीने में पूरी तरह से एक्टिवेशन हो जाता है। बच्चों को घर पर भी कुछ अभ्यास करने होते है और फिर 15 से 20 मिनट रोज प्रयोग करते रहने से जिंदगी भर इसका लाभ लिया जा सकता है। 

 मिड ब्रेन एक्टिवेशन के फायदे -

इसके एक्टिवेशन से बच्चों में एकाग्रता की जबरदस्त बढ़ोत्तरी होती है। जिससे बच्चे आँखे बन्द करके किसी भी वस्तु को छूकर या सूंघकर उसके बारे में सटीक बता देते है। जैसे कि उसे खुली आँखों से देख रहे हों। इस कोर्स को करने के बाद बच्चों की जीवनशैली ही बदल जाती है। यह कोर्स आधुनिक पद्धति पर आधारित है इसका किसी भी तरह का कोई साइड इफैक्ट नहीं है। इस कोर्स के कई अन्य लाभ हैं, जैसे आई- क्यू. का काफी तेजी से बढ़ना, ग्रहण शक्ति में वृद्धि, आत्म विश्वास बढ़ना, क्रिएटिविटी का विकास, गुस्से पर नियंत्रण, स्मरण शक्ति का विकास, विश्लेषण क्षमता तथा निर्णय लेने की क्षमता का विकास एवम और भी बहुत कुछ। यह तकनीक आज बच्चों के लिए एक वरदान बन चुकी है इसकी जानकारी जरूर प्राप्त करें।

जरा सोचिये

जब मिड ब्रेन एक्टिवेशन के बाद जब आपके बच्चे का कॉन्सेंट्रेशन, मेमोरी एवं आत्मविश्वास बढ़ जाता है और उसको थोड़े समय में ही पहले से बेहतर याद होने लगता है। जिसकी वजह से उसकी ट्यूशन या एक्स्ट्रा क्लासेज की जरूरत लगभग खत्म हो जाती है तो आप कितने रूपये हर महीने बचा सकते हैं।

सबसे बड़ी बात, आज के समय में किसी बच्चे के फ्यूचर के लिए  मिड ब्रेन एक्टिवेशन की काफी अहम भूमिका है मुझे नहीं लगता। बेहतर बनने के बेहतरीन समय का सदुपयोग करें